close
TomorrowMakers Logo

फ़ॉर्म 12 BB: निवेश घोषणा 101

SHAREfacebooktwitterlinkedin

ज्यादातर वेतनभोगी कर्मचारियों के लिए आयकर भुगतान अपेक्षाकृत परेशानी मुक्त है। उन्हें आमतौर पर इसके बारे में चिंता करने की ज़रूरत नहीं है क्योंकि साल के अंत में उनके नियोक्ता आयकर भुगतान के स्रोत पर टैक्स काटते हैं। टी.डी.एस कटौती की राशी इस आधार पर निर्भर होती है कि कर्मचारी ने किस निवेश योजना में निवेश किया है। वर्ष के अंत में,उन्हें फ़ॉर्म 12BB के साथ निवेश की सबूत भी जमा करने होते हैं। फ़ॉर्म 12BB एक निवेश घोषणा फ़ॉर्म है जो कि वेतनभोगी कर्मचारियों के लिए होता है और जिसमें वित्तीय वर्ष में किए गए सभी निवेशों का पूरा विवरण होता है । किया गया वास्तविक निवेश,वर्ष की शुरुआत में प्रस्तुत निवेश योजना से अलग हो सकता है। टैक्स देयता की गणना वास्तविक निवेशों के आधार पर की जाती है और व्यक्ति कर रिटर्न दाखिल करते समय अतिरिक्त टैक्स जमा करने की वापसी का दावा कर सकता है।

संबंधित : टैक्स के लिए निवेशों के सबूत जमा करने का समय है ? यहां दी गई है गाइड

फ़ॉर्म 12BB क्या है ?
जून 1,2016 में, केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड ने वेतनभोगी कर्मचारियों द्वारा किए गए निवेश की घोषणा के लिए प्रक्रिया का मानकीकरण किया। यह फ़ॉर्म 12 BB को प्रस्तुत करके किया गया। इससे पहले, इस तरह की घोषणा करने के लिए कोई मानक रूप नहीं था।

आमतौर पर नियोक्ता द्वारा कर्मचारी को दी गई आय ,यदि टैक्स सीमा से ऊपर जाती है ,तो दी गई आय से TDS कटौती की जाती हैं। कर्मचारियों से यह सुनिश्चित करने के लिए अपनी निवेश योजना साझा करने की उम्मीद की जाती है कि टीडीएस वर्ष के अंत में अपेक्षित टैक्स देयता के अनुरूप है। उच्च टीडीएस काटे जाने से बचने के लिए कर्मचारियों को जनवरी या फरवरी में निवेश का प्रमाण प्रस्तुत करना होता है।

वित्त अधिनियम 2015 में धारा 192 (2D ) की शुरुआत करने के लिए इस प्रक्रिया को और मजबूत किया गया।यह खंड भी निर्धारित करता है कि वेतन के भुगतान के लिए जिम्मेदार व्यक्ति को निर्धारित प्रपत्र में आवश्यक साक्ष्य भी एकत्र करने होंगे।

फार्म 12 BB के माध्मय से किन विभिन्न कटौतियों का दावा किया जा सकता है?
12 BB द्वारा निवेश या व्यय की घोषणा करके निम्नलिखित कटौती का दावा किया जा सकता है:
  1. मकान किराया भत्ता
  2. छुट्टियों की यात्रा रियायत या छुट्टियों की यात्रा भत्ता
  3. होम लोन पे चुकाया गया ब्याज
  4. अध्याय VI ए के तहत कर कटौती जिसमें धारा 80C ,83CCC, 80 CCD,80D, 80DD,80DDB,80G,80GGA,80GGC, 80TTA ,80U आदि के तहत कटौती शामिल है।

सम्बंधित
: आयकर अधिनियम की धारा 80 के अंतरगत मौजूद कटौतियाँ

मकान किराया का भत्ता
फ़ॉर्म 12 BB के पहले भाग में मकान किराये के भत्ते की टैक्स कटौती के दावे के लिए प्रावधान है। इसके लिए,आप को अपने मकान मालिक का नाम और पता देना होगा और वास्तविक भाड़ा जो आप चुकाते हैं की जानकारी देनी होगी। यदि आपकी वार्षिक किराया एक लाख रुपये से ज़्यादा है,तो आपको अपने मकान मालिक का पैन कार्ड नंबर देना होगा। साथ ही,आपको किराया की रसीदें भी संलग्न करके देनी होगी । यदि नकद भुगतान किया गया था, तो रसीदों पर राजस्व स्टाम्प चिपका दिया जाएगा।

संबंधित : एच॰आर॰ए॰ : सब कुछ जो इसके बारे में आपको जानना चाहिए।

अवकाश के यात्रा भत्ता/ रियायत
एल॰टी॰ए॰ या एल॰टी॰सी केवल आपके नियोक्ता द्वारा दावा किया जा सकता है। आपको नियोक्ता के लिए अपने सभी यात्रा प्रमाण प्रस्तुत करने होंगे और फॉर्म 12BB में जमा की गई कुल राशि और दस्तावेजों की संख्या का उल्लेख करना होगा। याद रखें कि आप 4 साल की अवधि के ब्लॉक में दो बार इस कटौती का दावा कर सकते हैं। वर्तमान ब्लॉक 2018 -2022 है।

सम्बंधित : होम लोन लेने के लिए एक अच्छा विचार कब है?

होम लोन पर दिया गया ब्याज
आपको होम लोन पर दिए गए ब्याज पर कटौती का दावा करने के लिए ब्याज भुगतान, ऋणदाताओं के नाम और पते जैसी जानकारी प्रदान करनी होगी।आपको अपने ऋण विवरण की एक प्रति भी देनी होगी, जिसमें किए गए भुगतान का विवरण दिखाई देगा।

घर खरीदते समय आप स्टैंप ड्यूटी और पंजीकरण शुल्क और ब्रोकरेज खर्च पर कटौती का भी दावा कर सकते हैं। यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि यह केवल तभी लागू होता है जब आपको कम से कम 5 साल के लिए घर पर पोजिशन करना हो। यदि आप इस अवधि के समाप्त होने से पहले घर बेचते हैं, तो आपको इन खर्चों पर भी करों का भुगतान करना होगा।

इमेज टेक्स्ट :

अध्याय 6A के तहत कटौती
इसमें शामिल हैं :
  • धारा 80 सी॰: जीवन बीमा के प्रीमियम,ई.एल.एस.एस,पी.पी.एफ,एन.पी.एस में निवेश,अपने बच्चों के अध्ययन के लिए भुगतान किए गए ट्यूशन फ़ीस आदि
  • धारा 80CCC: एन्युटी प्लान की ओर प्रीमियम
  • धारा 80CCD: एनपीएस के लिए अतिरिक्त योगदान
  • धारा 80 D: चिकित्सा बीमा के प्रीमियम
  • धारा 80 E: शिक्षा ऋण पर चुकाए गए ब्याज
  • धारा 80 G: धर्मार्थ संगठनों को मान्यता देने के लिए किया गया दान
  • धारा 80 TTA: बैंक के बचत खाते से ब्याज

निवेश की घोषणा के संबंध में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

1) मुझे अपने नियोक्ता को मेरे द्वारा किए गए निवेश की घोषणा क्यों करनी चाहिए?

जैसा कि आपका नियोक्ता आपके वेतन पर टीडीएस की कटौती करने के लिए जिम्मेदार है, आपके टैक्स बचत निवेशों की घोषणा करने से उन्हें टैक्स देयता की सही गणना करने और आपके टैक्स देनदारियों को पूरा करने के लिए केवल उतना ही टी.डी.एस की कटौती करने की अनुमति मिलती है।यदि आपने अपना निवेश घोषित नहीं किया है, तो आपकी पूरी आय को कर योग्य आय के रूप में माना जाएगा, जिसके परिणामस्वरूप उच्च टीडीएस कटौती होगी।

2) फार्म 12BB कब जमा किया जाना चाहिए ?
आमतौर पर, आपको अपने नियोक्ता को जनवरी या फरवरी के महीने में फार्म 12bb और सम्बंधित निवेश प्रमाण प्रस्तुत करना होगा।किसी भी भ्रम से बचने के लिए आपको अपने संगठनों के वित्त विभाग के साथ इसकी जांच करनी चाहिए।

3) क्या मुझे आयकर विभाग को इस फ़ॉर्म को जमा करना होगा ?
नहीं।फॉर्म 12BB आयकर विभाग को प्रत्यक्ष रूप से नहीं दिया जाता है।इसे आपको अपने नियोक्ता के पास जमा करना होगा।यह सुनिश्चित करेगा कि टीडीएस कटौती की गई वर्ष के अंत में,आपकी अपेक्षित कर देयता के अनुरूप है।

4) अगर मैं समय पर सबूत देने में असमर्थ हूं तो क्या होगा?
यदि आप अपने नियोक्ता द्वारा निर्धारित समय सीमा से प्रमाण प्रस्तुत करने से चूक जाते हैं, तो वह इस धारणा के आधार पर अतिरिक्त टीडीएस काट लेगा कि निवेश नहीं किया गया था। इस बारे में चिंता करने की आवश्यकता नहीं है ।जब आप उस अवधि के लिए अपना आयकर रिटर्न फाइल करेंगे, तो आप कर वापसी का दावा कर सकेंगे।

5) एक बार जमा करने के बाद क्या मैं फ़ॉर्म 12 BB में बदलाव कर सकता हूँ ?
फॉर्म 12BB केवल एक बार प्रति कर्मचारी जमा किया जा सकता है।फॉर्म जमा करने के बाद कोई भी अतिरिक्त निवेश, आपको आयकर रिटर्न दाखिल करते समय दावा करना होगा। आप किसी भी भ्रम से बचने के लिए अपने संगठनों के वित्त विभाग से बात कर सकते हैं।
Back to Top