Never miss a great news story!
Get instant notifications from Economic Times
AllowNot now


You can switch off notifications anytime using browser settings.

टैक्स

11 August, 2020, 08:51 AM IST
इनकम टैक्‍स रिटर्न की स्‍क्रूटनी का आंकड़ा घटा, जानें क्‍या हैं इसके मायने

अगर करदाता अपनी आय को जानबूझकर कम बताता है या नुकसान को बढ़ाचढ़ा कर दिखाता है तो धारा 143 (2) के तहत उस व्यक्ति को स्क्रूटनी का नोटिस जारी किया जाता है.

पैन जमा नहीं किया तो एक अप्रैल के बाद घोषित डिविडेंड पर ज्‍यादा कटेगा टैक्‍स

नए नियम के अनुसार, म्‍यूचुअल फंडों और घरेलू कंपनियों से होने वाली डिविडेंड इनकम पर निवेशकों को टैक्स देना होगा. दूसरे शब्दों में कहें तो ऐसा डिविडेंड कुल आमदनी में जुड़ जाएगा. इस पर स्लैब के हिसाब से टैक्स देना होगा.

श्री राम जन्‍मभूमि तीर्थ क्षेत्र में दान दे सकते हैं आप, मिलेगी इनकम टैक्‍स से छूट

एक चैरिटेबल या धार्मिक ट्रस्ट को पहले सेक्शन 11 और 12 के तहत छूट के लिए रजिस्ट्रेशन को लेकर अप्लाई करना होता है. इसके बाद दान करने वाले लोगों को सेक्शन 80जी के तहत छूट की मंजूरी मिलती है.

जुलाई में जीएसटी कलेक्‍शन घटा, 87,422 करोड़ रुपये पर पहुंचा

जुलाई में जीएसटी से प्राप्त राजस्व साल भर पहले इसी अवधि की तुलना में 86 फीसदी है. करदाताओं को कोरोना वायरस महामारी के मद्देनजर फरवरी, मार्च और अप्रैल में जीएसटी भुगतान से राहत प्रदान की गई थी.

एचडीएफसी बैंक से फॉर्म-16ए और इंटरेस्‍ट सर्टिफिकेट कैसे डाउनलोड करें?

वित्‍त वर्ष 2019-20 का इंटरेस्‍ट सर्टिफिकेट लेने से यह फायदा होगा कि आपको पता चल जाएगा कि बैंक ने इस दौरान कितना ब्‍याज दिया.

सरकार ने रिवाइज्‍ड, बिलेटेड आईटीआर फाइल करने की डेडलाइन बढ़ाई, जानें इसका मतलब

इनकम टैक्स विभाग कुछ मामलों में आखिरी तारीख खत्म होने के बाद भी रिटर्न फाइल करने की इजाजत देता है. जो लोग आखिरी तारीख तक इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने से चूक गए हैं, वे बिलेटेड आईटीआर फाइल करते हैं.

सोने में कालाधन रखने वालों के लिए आ सकती है एमनेस्टी स्कीम

आने वाले वक्त में लोगों को घर में रखे सोने की जानकारी देनी जरूरी हो सकती है

सरकार ने संशोधित इनकम टैक्‍स रिटर्न भरने की तारीख बढ़ाई, जानें क्‍या है नई डेट

वित्‍त मंत्रालय ने इसके पहले 24 जून को तमाम टैक्‍स संबंधी डेडलाइनों को बढ़ाने का एलान किया था. उसी में संशोधित इनकम टैक्‍स रिटर्न फाइल करने की तारीख बढ़ाने की घोषणा भी की गई थी.

नए फॉर्म 26एएस के बारे में यहां जान‍िए अपने हर सवाल का जवाब

इस साल से फॉर्म 26एएस में एक नया सेक्‍शन ई जोड़ा गया है. इसमें वित्‍त वर्ष के दौरान किसी व्यक्ति की ओर से किए गए ऊंचे मूल्य के लेनदेन का उल्लेख होगा.

टैक्‍स से जुड़ी इन 5 तारीखों के बारे में आपको जरूर जानना चाहिए

वित्‍त वर्ष 2019-20 यानी पिछले फाइनेंशियल ईयर के लिए टैक्‍स से जुड़ी कई तारीखों को बदला है. टैक्‍स से जुड़ी इन नई तारीखों के बारे में जान लेना जरूरी है.

टैक्‍सेबल इनकम से तय हो सकती है क्रीमी लेयर की परिभाषा

क्रीमी लेयर ओबीसी की वह कैटेगरी है जिसे एडवांस माना जाता है. इसे नौकरी और शिक्षा में 27 फीसदी रिजर्वेशन नहीं मिलता है.

ईमेल से भेजा जाएगा जीएसटी देनदारियों का ब्‍योरा, जीएसटीएन कर रहा बंदोबस्‍त

जीएसटीआर-1 विक्रेता दाखिल करते हैं. इसमें सभी तरह की आपूर्ति (बिक्री) का रसीद व श्रेणी के आधार पर जिक्र होता है. इसे हर महीने की 11वीं तारीख तक फाइल करना होता है.

इस साल 31 जुलाई तक टैक्स बचत के लिए किए निवेश पर आप किस साल में ले सकते हैं लाभ?

इनकम टैक्स में छूट पाने के लिए सेक्शन 80सी के तहत आप 31 जुलाई 2020 तक निवेश कर सकते हैं.

ये बुनियादी बातें जान लें तो इनकम टैक्‍स रिटर्न भरने में नहीं आएगी मुश्किल

बैंक से जारी टीडीएस सर्टिफिकेट के आधार पर डिपॉजिट पर अर्जित ब्याज का ध्यान रखना आसान है. लेकिन, शेयरों और म्यूचुअल फंड में अपने बाकी निवेश को संभालना मुश्किल है.

इनकम टैक्स रिटर्न भरने में हाई वैल्यू ट्रांजेक्शन का देना होगा ब्योरा

इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट ने फॉर्म 26एएस में कई बड़े बदलाव किए हैं. फॉर्म 26एएस आपका सालाना टैक्स स्टेटमेंट होता है. आप अपने पैन नंबर की मदद से इसे इनकम टैक्स विभाग की वेबसाइट से निकाल सकते हैं.

इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट ने ₹71,000 करोड़ का रिफंड जारी किया

केंद्रीय प्रत्‍यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने इस बारे में एक आधिकारिक बयान जारी किया है. इसमें कहा गया है, ''जो भी रिफंड से जुड़े मामले हैं, उन्हें प्राथमिकता के आधार पर लिया जा रहा है. इसे 31 अगस्त 2020 तक पूरा कर लिए जाने की संभावना है.''

Load More...

हमें फॉलो करें


ईटी ऐप हिंदी में डाउनलोड करें


Copyright © 2020 Bennett, Coleman & Co. Ltd. All rights reserved. For reprint rights: Times Syndication Service

BACK TO TOP