Never miss a great news story!
Get instant notifications from Economic Times
AllowNot now


You can switch off notifications anytime using browser settings.

टैक्स

07 April, 2020, 09:28 PM IST
कोविड-19 : टीडीएस छूट का फॉर्म भरने के लिए सरकार ने अतिरिक्‍त समय दिया

फॉर्म 15जी और 15एच उन लोगों को भरना होता है जिनकी आमदनी टैक्‍स योग्य सीमा से कम है. ये फॉर्म ब्याज आय पर टीडीएस छूट के लिए भरने होते हैं. आमतौर करदाता ये फॉर्म बैंकों और वित्तीय संस्थानों के पास अप्रैल में जमा कराते हैं.

कोरोना: पीएम केयर्स फंड में दान पर मिलेगी 100% टैक्‍स छूट

सरकार ने मंगलवार को बारे में अध्‍यादेश जारी किया है. कोरोना वायरस संकट से निपटने के लिए इस फंड का इस्‍तेमाल होगा.

टैक्स-सेविंग्स इनवेस्टमेंट के लिए अवधि बढ़ी, अब 30 जून तक कर सकते हैं निवेश

कोरोना वायरस के फैलने के कारण कई बैंक बहुत कम स्‍टाफ के साथ काम कर रहे हैं और केवल आवश्‍यक सेवाएं ही दे रहे हैं.

सरकार ने टैक्‍स से जुड़ी इन 4 चीजों की समयसीमा बढ़ाई

सरकार ने बिलेटेड इनकम टैक्‍स रिटर्न (आईटीआर) फाइल करने की तारीख भी 30 जून तक बढ़ा दी है जो पहले 31 मार्च तक थी.

कोरोना : इनकम टैक्स डिपार्टमेंट बढ़ा सकता है 31 मार्च की समयसीमा

अखिल भारतीय अधिकारी संघ ने सभी आयकर अधिकारियों को कोरोना वायरस के मद्देनजर कार्मिक विभाग की ओर से जारी ड्यूटी व सावधानी संबंधी दिशानिर्देशों का पालन करने की सलाह दी है

कोरोना संक्रमण के दौर में भी जरूरी टैक्स वसूल सकेगी सरकार

जीएसटी, मोटर व्हीकल टैक्स आदि वसूलने पर केरल और इलाहबाद हाई कोर्ट ने रोक लगा दी थी

कैपिटल गेंस टैक्स से छूट का कैसे उठाएंं फायदा?

टैक्‍स बचाने के लिए सेक्‍शन 54 के प्रावधानों के तहत रिहायशी प्रॉपर्टी में इस गेन को निवेश कर सकते हैं या फिर सेक्‍शन 54ईसी के तहत खास बॉन्‍डों में निवेश कर सकते हैं.

31 मार्च से पहले खत्‍म कर लें ये 10 जरूरी काम, होगा फायदा

देर से इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने पर पेनल्टी लगती है. वित्‍त वर्ष 2018-19 (आकलन वर्ष 2019-20) के लिए टैक्स रिटर्न फाइल करने की समयसीमा, 31 जुलाई 2019 थी, जिसे बाद में एक महीने के लिए बढ़ा दिया गया था.

'विवाद से विश्वास स्कीम' के बारे में यहां जानिए हर जरूरी बात

जिन मामलों में केवल ब्याज या जुर्माना बनता है, वहां विवादित ब्याज या जुर्माने का 25 फीसदी 31 मार्च तक भुगतान करना होगा. उसके बाद यह राशि बढ़कर 30 फीसदी हो जाएगी.

म्‍यूचुअल फंडों से मेरा मुनाफा ₹1 लाख से कम है, क्‍या मुझे आईटीआर भरना चाहिए?

एक लाख रुपये से ज्‍यादा के गेंस पर 10 फीसदी की दर से टैक्‍स लगता है. टैक्‍स से छूट या एग्‍जेम्‍प्‍शन का मतलब होता है कि टैक्‍स के कैलकुलशन के लिए कुल इनकम में उसे नहीं जोड़ा जाता है. इससे करदाता की कुल टैक्‍सेबल इनकम घट जाती है.

यस बैंक का संकट आपकी टैक्‍स सेविंग को पहुंचा सकता है नुकसान, जानिए कैसे

अगर यस बैंक के खाते से ईएलएसएस म्‍यूचुअल फंड में आपका सिप या इंश्‍योरेंस प्रीमियम ऑटो-डेबिट होता था तो अब ऐसा नहीं होगा. वजह है कि इस प्राइवेट बैंक पर आरबीआई ने कई तरह की बंदिशें लगा दी हैं.

जमीन के बढ़े हुए मुआवजे, ब्‍याज पर नहीं लगेगा टैक्‍स: आईटीएटी

हरियाणा के एक किसान के खिलाफ असेसिंग ऑफिसर की ओर से निकाली गई डिमांड और उसे सही ठहराने वाले इनकम टैक्‍स कमिश्‍नर के फैसले को खारिज करते हुए ट्रिब्‍यूनल ने सुप्रीम कोर्ट के एक हालिया फैसले को आधार बनाया.

महंगा होगा स्‍मार्टफोन, 18% जीएसटी लगाने की तैयारी

अगर काउंसिल प्रस्‍ताव को मान लेती है तो जीएसटी रेट बढ़ने से हर कैटेगरी के मोबाइल फोन का दाम बढ़ सकता है. यह इंडस्‍ट्री के लिए नुकसानदेह हो सकता है.

ज्‍यादा टैक्‍स बचाने के लिए एनपीएस में आप ₹2 लाख से ज्‍यादा कर सकते हैं निवेश

सेक्‍शन सीसीडी (1बी) के तहत 50,000 रुपये की अतिरिक्‍त छूट का लाभ मिलता है. यह सेक्‍शन 80सी की लिमिट से इतर होता है.

'विवाद से विश्वास' स्कीम के दायरे में नहीं आएंगे वेल्थ टैक्स, एसटीटी और सीटीटी के मामले

एफएक्यू में साफ किया गया है कि जिन मामलों में राजस्व विभाग अपील के लिए गया है, घोषणाकर्ता को 50 फीसदी विवादित टैक्‍स (तलाशी मामलों में 62.5 फीसदी) और/या विवादित जुर्माने, ब्याज या शुल्क का 12.5 फीसदी 31 मार्च तक देना होगा.

पिछले वित्‍त वर्ष का आईटीआर फाइल नहीं किया? 31 मार्च तक है अंतिम मौका

मार्च केवल टैक्‍स से जुड़ी डेडलाइन के लिए ही अहम नहीं है. इसी महीने तक आपके पास टैक्‍स सेविंग को पूरा करने के लिए अंतिम मौका है. अग्रिम टैक्‍स का भुगतान करने के लिए भी मार्च में ही अंतिम मौका है.

Load More...

हमें फॉलो करें


ईटी ऐप हिंदी में डाउनलोड करें


Copyright © 2020 Bennett, Coleman & Co. Ltd. All rights reserved. For reprint rights: Times Syndication Service

BACK TO TOP